BLOGGER TEMPLATES - TWITTER BACKGROUNDS »

Friday, January 15, 2010

मैंने ना सोचा था इन आँखों मे कभी आंसू होंगे
पर इन बूंदों ने कुछ सच तो बताया !!
मैंने ना सोचा था तुम्हे याद करना मेरी फितरत बन जाएगी
पर इन यादों ने इक प्यार का अहसास तो कराया !!
जब कभी ख़ामोशी या महफ़िल मैं खुद को तन्हा सा पाया
उस पुरानी डायरी से तुम्हारी तस्वीर निकलने का इक मौका तो पाया !!
तुम्हारी यादो ने कभी मेरा साथ न छोरा
यूँ ही उस चेहरे को याद करने का इक बहाना तो बताया !!

4 comments:

janokti said...

हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में वैकल्पिक मीडिया का प्रतिनिधि "जनोक्ति परिवार "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . आप हमारे ब्लॉग अग्रीगेटर पर भी पंजीयन कर सकते हैं . नीचे लिंक दिए गये हैं .
http://www.janokti.com/ , http://www.blogprahari.com

अजय कुमार said...

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

संगीता पुरी said...

इस नए ब्‍लॉग के साथ आपका हिन्‍दी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. आपसे बहुत उम्‍मीद रहेगी हमें .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

amit said...

well written.....hoe u'll continue writing ur blog...